Friday, May 29, 2009

दुनिया का ढाँचा


यूँ तो देह के भीतर छिपा है
कहीं मन
कहीं वो
लोग जिसे भावों का पुंज कहते हैं
लेकिन दुनिया का ढाँचा
इसके बिल्कुल उलट है
वहाँ मन दिखता है
ऊपर-ऊपर,
सब तरफ मित्रता
भाईचारा,
नैतिकता,
लेकिन बस ऊपर-ऊपर.
इसके ठीक नीचे
बहुत गहरे बहुत विस्तृत
फैली है देह
देह की बू
जब कभी उठ जाती है ऊपर तक
तब सड़ने लगता है मन
गंधियाने लगता है दिमाग
पिलपिला हो जाती है दुनिया
वो दुनिया
जिसका अधिकार
पुरूष के हाथ में है.

4 comments:

Nirmla Kapila said...

vah aprajitaji bahut sahi abhivyakti hai magar aap to aprajita ho fir purush kese havi ho sakta hai han dunia ka dhancha bilkul yahi hai abhar aur shubhkamnayen

श्यामल सुमन said...

अच्छी भावाभिव्यक्ति। सुन्दर रचना। वाह अपराजिता जी।

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
www.manoramsuman.blogspot.com
shyamalsuman@gmail.com

vandana said...

shandar abhivyakti ek anoothe dhang mein.

nutan said...

kvita achchhi lagi...