Tuesday, May 5, 2009

चीज़ और छूट गई शायद


बाहर होते ही छूट गया

माँ का घर बेटी से

पर नहीं छूट पाया उससे

माँ, बाबा, बहन की ओर झुका मन

घर के संस्कार

खास दिनचर्या में पक चुका तन

हाँ चीज़ और छूट गई शायद

घर का बेटी से अपनापन !...

3 comments:

Navnit Nirav said...

kuchh chiyein aisi hoti hain ki ham na chahte hue bhi uska bhag ban jaate hain ..........shayad isi liye aapne yah kavita likhi hai.
Achchhi kavit hai. Dhanyawad
Navnit Nirav

ajay kumar jha said...

bahut sundar blog aur utnee hee prabhaavee lekhanee hai aapkee, saraltaa se bahut kuchh keh diyaa aapne... likhtee rahein...

अनिल कान्त : said...

vicharon se bhari rachna

मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति