Friday, July 24, 2009

एक गंभीर सवाल



मैंने भारत के भविष्य को

जलती सड़कों पर नंगे पैरों चलते देखा है.

मैंने भारत के भविष्य को

सड़कों पर, चौराहों पर

भीख मांगते देखा है.

मैंने भारत के भविष्य को

फटे बोरे में कबाड़ बीनते देखा है.

मैंने भारत के भविष्य को

भूख से बिलखते तड़पते देखा है.

मैंने देखा है

एक गंभीर सवाल बनते

भारत के भविष्य को.

5 comments:

अविनाश वाचस्पति said...

देखा तो मैंने भी है
इतना सब कुछ
पर गंभीर सवाल पर
आपका दृष्टिकोण
अच्‍छा लगा
पर क्‍या ये सवाल
रहेगा सवाल ही
या मिलेगा इसका
कभी जवाब भी।

अपराजिता said...

जवाब तो है वाचस्पति जी, लेकिन निजी स्वार्थों ने कैद कर रखा है। जाने नहीं देता जवाब की दिशा में।

Mithilesh dubey said...

Bahut khub Aprajita ji, bahut marmik vichar hai. Esse bachne ka upaya to bas yahi hai ki eski suruat hamse aur aap se ho taki ham bharat ke bhabisya ko es tarah se barbad na hone de . Aur aap se kahana chahunga ki aap mere dvara likhe gaye sei mudde pe lekh jarur padhe aur apna margdarashan de. Abhar

M VERMA said...

मैंने देखा है
एक गंभीर सवाल बनते
भारत के भविष्य को.
===
मार्मिक और संवेदनशील सवाल -- जबाब तलाशना ही होगा.
सुन्दर रचना

संगीता पुरी said...

देश के भविष्‍य को बनाने वाले इस हालात में हों .. तो आपकी चिंता स्‍वाभाविक है।